Sangh aur Parisangh संघ परिसंघ

No comments exist

संघ और परिसंघ के बीच क्या अंतर होता है।

भारत (राज्यों का एक संघ)
कोई भी राज्य दो अवश्थाओं में हो सकता है संघ अथवा परिसंघ। संघ और परिसंघ यह दो शब्द हम अधिकतर किताबों में पड़ते हैं परंतु कभी कभी हमे सही शाब्दिक ज्ञान ना होने होने पर हम इनका सही अर्थ नही निकाल पाते हैं। सबसे पहले हैम अपने देश के विषय में चर्चा करेंगे। भारत वास्तव में राज्यों का संघ है जैसे की संविधान के अनुच्छेद 1 में भी कहा गया है की भारत अथार्त इंडिया राज्यों का एक संघ होगा। भारत के राज्यों पर उससे अलग होने की शक्ती अथवा केंद्र के विरुद्ध कोई कानून बनाने की शक्ती नही है क्योंकि यह राज्य भारत का अभिन्न अंग हैं इसी प्रकार केंद्र राज्यों से अधिक सबल होने के कारण राज्य इस प्रकार के किसी भी अधिकार से वंचित हैं जिससे की राष्ट्र की अखंडता को खतरा हो।

संघ क्या है
संघ केंद्र व राज्यों का वह ढांचा है जिसमे केंद्र सबल व राज्य दुर्बल होते है। राज्य के पास ऐसी कोई शक्ती या अधिकार नही होते जिससे की वोह केंद्र से अलग हो सके या केंद्र की प्रभुसत्ता को किसी प्रकार प्रकार की हानी पहुंचा सके। संघीय व्यवस्था में केंद्र अपनी मर्ज़ी से जनहित के आधार पर राज्यों की सीमाओ में फेर बदल कर सकता है। भारत को राज्यों का संघ इसी कारण कहा गया है क्यूंकी भारतीय व्यवस्था बहोत हद तक संघीय व्यवस्था से मिलती है। कुछ विद्वानों का मान ना है की भारत में अर्धसंघीय व्यवस्था है परंतु वास्तविकता तो यही है भारत में कोई भी राज्य किसी संधी अथवा समझौते के आधार पर नही जुड़ा हुआ है। यह राज्य प्रारम्भ से ही भारत के अभिन्न अंग हैं। जम्मू और कश्मीर इस वक्तव्य के अनुसार एक अपवाद व विद्वानों के बीच एक चर्चा का विषय है।

परिसंघ क्या है
परिसंघ में संघ के बिल्कुल विपरीत राज्यो पर केंद्र को नुकसान पहुंचाने के लिए पर्याप्त शक्ति होती है। परिसंघ में राज्य केंद्र से किसी सन्धि अथवा समझौते के माध्यम से जुड़े होते हैं। इस व्यवस्था में केंद्र को राज्य से व राज्य को केंद्र से लाभ की इच्छा होती है, जबकी संघीय व्यवस्था में केंद्र को राज्य से किसी प्रकार के लाभ की इच्छा नही होती है। परिसंघीय व्यवस्था में केंद्र की स्तिथी दुर्बल व राज्यो की स्तिथी सबल होती है। यही कारण है कि परिसंघीय व्यवस्था एक अस्थाई व्यवस्था है व संघीय व्यवस्था एक स्थाई व्यवस्था है।

 

यह भी अवश्य पढ़ें… 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *